Followers

Wednesday, March 25, 2020

अधीर मत हो मन

अधीर मत हो मन
फिर खिल उठेगा चमन
बस हौसला बनाए रख
कठिन है यह अग्निपथ
अपने बढ़ते कदम रोक लें
तूफानों की राह मोड़ दें
आओ एकजुट होकर सभी
नियम यह पालन करें
मानवता की भलाई में
एक ही प्रार्थना करें
पग बिछे कंटक हटे
हम यह जंग जीत ले
परिस्थितियाँ विकट है
 निराश होकर डर मत
कठिन घड़ी भले समीप
मानवता के हित की
विजय फिर जरूर है
फिर शुरू होगी हलचल
मानव के कदमों की
आशा की ज्योति जलाकर
संयम रखें,स्वस्थ रखें
_अनुराधा चौहान ✍️
चित्र गूगल से साभार

2 comments:

  1. अधीर मत हो मन
    फिर खिल उठेगा चमन
    बस हौसला बनाए रख
    कठिन है यह अग्निपथ... वाह !लाज़वाब सृजन बहना 👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सखी 🌹

      Delete