Followers

Friday, March 4, 2022

लोभ


काँपते हैं देख कानन
मानवों की भीड़ को।
रोपते तरु काट नित वो
पत्थरों के चीड़ को।

 नित नए आकार लेता   
लोभ का गहरा कुआँ।
घुट रही हर श्वास धीरे
डस रहा जहरी धुआँ।
हँस रहे हैं कर्म दूषित
देख बढ़ती बीड़ को।
काँपते हैं देख....

 भ्रष्ट चलकर झूठ के पथ
नित नई सीढ़ी चढ़े।
धर्म आहत सा पड़ा अब
पाप पर्वत सा बढ़े।
सत्य लड़ने को पुकारे
घटती हुई छीड़ को।
काँपते हैं देख....

छटपटाती श्वास तन में
बाग पथरीले पड़ी।
हँस रही अट्टालिकाएँ
हाल पर उनके खड़ी।
बन पखेरू प्राण उड़ते
जा रहे तज नीड़ को।
काँपते हैं देख....

*अनुराधा चौहान'सुधी'स्वरचित*
चित्र गूगल से साभार
छीड़-मनुष्य के जमघट की कमी।
बीड़- एक पर एक रखे सिक्कों का थाक।


8 comments:

  1. Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीय।

      Delete
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा रविवार (06 मार्च 2022 ) को 'ये दरिया-ए गंग-औ-जमुन बेच देंगे' (चर्चा अंक 4361) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। 12:01 AM के बाद आपकी प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीय।

      Delete

  3. छटपटाती श्वास तन में
    बाग पथरीले पड़ी।
    हँस रही अट्टालिकाएँ
    हाल पर उनके खड़ी।
    बन पखेरू प्राण उड़ते
    जा रहे तज नीड़ को।
    काँपते हैं देख....बहुत सुंदर सराहनीय रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार जिज्ञासा जी

      Delete
  4. आदरणीया अनुराधा जी, आपने बहुत बड़े सच को अपनी इस कविता द्वारा उजागर किया है। ये लाजवाब पंक्तियाँ:
    नित नए आकार लेता
    लोभ का गहरा कुआँ।
    घुट रही हर श्वास धीरे
    डस रहा जहरी धुआँ।
    हँस रहे हैं कर्म दूषित
    देख बढ़ती बीड़ को।
    काँपते हैं देख....
    साधुवाद!--ब्रजेंद्रनाथ

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीय।

      Delete