Followers

Wednesday, September 5, 2018

मैं तेरा मीत बनूं

तुम आँख बंद करो
मै सपने बुनूं
तुम उन्हें शब्द दो
मै इन्हें लिखू
तुम धुन गुनगुनाओ
मै गीत लिखूं
तुम इन्हें सुर दो
मै साज बनूं
तुम मन की वीणा
मै तार बनूं
तुम मेरा जीवन
मै संगीत बनूं
तू मेरी मितवा
मै तेरा मीत बनूं
प्यार से जहां में तेरे
मै अपनी प्रीत भरूं
***अनुराधा चौहान***




36 comments:

  1. behtareen....khoobsoorat bhavon se bhari rachna ji...

    ReplyDelete
  2. प्रेम रस से भीगी हुई सुंदर कविता

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार

      Delete
  3. बहुत सुंदर अनुराधा जी उच्चतम समर्पित भाव ।

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत रचना अनुराधा जी

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर.....,

    ReplyDelete
  6. सुहाना स्वप्न संगीत

    ReplyDelete
  7. अतिसुन्दर
    प्रेम से ओतप्रोत रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आदरणीय लोकेश जी

      Delete
  8. तू मेरी मितवा
    मै तेरा मीत बनूं
    प्यार से जहां में तेरे
    मै अपनी प्रीत भरूं
    .क्या ब्बात... बहुत ख़ूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय

      Delete
  9. कितनी ख़ूबसूरत और कोमल अभिव्यक्ति - बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय

      Delete
  10. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक १० सितंबर २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना को पांच लिंकों का आनंद में स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार श्वेता जी

      Delete
  11. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है. https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2018/09/86.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  12. वाह....
    बेहतरीन
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार यशोदा जी

      Delete
  13. बहुत सुन्दर...
    वाह!!!

    ReplyDelete
  14. प्रिय अनुराधा जी -- छोटी सी मधुर रचना मन मीत के नाम !!!!!!!! हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार रेणू जी

      Delete