Followers

Tuesday, October 12, 2021

विधाता का लेख


कर्म भूलता फिरता मानव
झूठ किए है सिर धारण
सत्य राह से विमुख हुआ तो
क्रोध बना है संहारण।

लेख विधाता का है पक्का
जो बोया है वो पाया।
सीख बुराई मन में पाले
सुख सारे ही खो आया।
चाल धर्म से अलग हुई तो
ज्ञान हुआ मन से हारण।
कर्म भूलता...

सहनशीलता दान धर्म से
तेज कर्ण सा चमका था।
जीवन की करनी जब बिगड़ी
पाप नाश बन धमका था।
भूल गया जब राह धर्म की
शुरू हुआ जीवन मारण।
कर्म भूलता....

आज मनुज की गलती सारी
मौत बनी अब डोल रही।
अनजाने ही क्रोध सहे फिर
ज्ञान चक्षु को खोल रही।
हतप्रभ हो सब जगती बैठी
दोष आज हर ले तारण।
कर्म भूलता....

भाई भाई का बैरी बन
एक दूजे पर वार करें।
रक्त धरा पे बहे नदी सा
मन में सबने द्वेष भरे।
चक्र फँसा सब मंत्र भूलता
चढा शाप या गुरु कारण।
कर्म भूलता......
अनुराधा चौहान'सुधी' स्वरचित✍️ 

8 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार(१४-१०-२०२१) को
    'समर्पण का गणित'(चर्चा अंक-४२१७)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  2. वर्तमान हालातों का सजीव चित्रण

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीया।

      Delete
  3. भाई भाई का बैरी बन
    एक दूजे पर वार करें।
    रक्त धरा पे बहे नदी सा
    मन में सबने द्वेष भरे।
    चक्र फँसा सब मंत्र भूलता
    चढा शाप या गुरु कारण।
    कर्म भूलता......
    याथर्थ को बयां करती बहुत ही सरहनीय रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार मनीषा जी।

      Delete
  4. बहुत सुंदर सृजन सखी ।
    कर्ण के माध्यम से आज के यथार्थ पर भी सटीक रचना। सुंदर सहज काव्य लेखन।
    सस्नेह।

    ReplyDelete